Skip to main content

हमें जैविक चाय और जैविक भोजन की आवश्यकता क्यों है।

हमें जैविक चाय और जैविक भोजन की आवश्यकता क्यों है।

जैविक खेती क्या है?(what is organic farming)

यह खेती प्रणाली की एक विधि है जिसके द्वारा खेत की मिट्टी को स्वस्थ बनाने के साथ-साथ फसल को ज्यादा से ज्यादा उपजाऊ कर सकते हैं वह भी बिना किसी पेस्टिसाइड और फर्टिलाइजर के, यह कोई नई पद्धति नहीं है यह पुराने जमाने से चली आ रही जैविक खेती हैं।

जैविक खेती कैसे करें ? (How to do Organic Farming)

पिछले कई सालों से हम देखते आ रहे हैं कि कीटनाशक और फर्टिलाइजर से खेती को लगातार नुकसान होता जा रहा है जिसके कारणवश उससे कई बीमारियां उत्पन्न हुई है, जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक है, जिसमें कैंसर सबसे बड़ा नाम है, और पर्यावरण को भी लगातार हानी पहुंच रही है और मिट्टी की उपजाऊपन भी खत्म होती जा रहा, जो कीटनाशक हम फसलों में मिला रहे वह हमारे शरीर में भी पहुंच गया औरपानी को भी दूषित कर दिया जिससे हजारों जीव जंतु नष्ट होने की कगार पर है।

वातावरण को संतुलित करने के लिए हमें जैविक खेती को बढ़ाना चाहिए और खेतों में ज्यादा रसायनिक के उपयोग से जो मिट्टी के जीवाणु नष्ट हो गए थे उन्हें पुनः जीवित कर सकते हैं जो स्वस्थ मिट्टी के लिए बहुत कारगर सिद्ध होते हैं। जिससे हमें स्वस्थ फसल प्राप्त होती है और जिससे पर्यावरण को अनुकूल बनाया जा सकता है।

जैविक खेती के फायदे? (Benefits of organic farming)

जैविक खेती से हम खेतों की मिट्टी को स्वस्थ बना सकते हैं जैविक खाद्य पदार्थ (organic food) जो बिना किसी रासायनिक व कीटनाशक के उगाए जाते हैं इसमें पौष्टिक आहार होता है जो हमारे शरीर के लिए लाभदायक माना जाता है
एक स्वस्थ और अच्छे भोजन के लिए आपको स्वस्थ मिट्टी से विकसित फसल से ही शुरुआत करना चाहिए, यदि हम कीटनाशक और रसायनों के उपयोग से मिट्टी का इलाज करेंगे तो एक दिन हम भी मिट्टी में ही मिल जाएंगे, प्राकृतिक खेती(organic farming) की प्रक्रिया रसायनिक खेती से कहीं ज्यादा लाभदायक और अच्छी होती है|

परंपरागत खेती से नुकसान (conventional farming)

परंपरागत खेती यानी कि जो रासायनिक, कीटनाशक और फर्टिलाइजर उपयोग करके खेती की जाती है उसे हम परंपरागत खेती कहते हैं, यह खेती बहुत महंगी होती है जिसमें दवाइयों और फर्टिलाइजर का खर्च बहुत ज्यादा आता है जिसके कारण कई किसान कर्ज के बोझ में भी दब जाते हैं और आत्महत्या करने पर मजबूर होते हैं।
एक सरकारी रिपोर्ट के मुताबिक पंजाब में एक सर्वे किया गया जिसमें कुछ लोगों के ब्लड सैंपल लिए गए और उनकी जांच कराई गई और जांच में पाया कि जितना हमारे शरीर में यूरिया और रसायन का स्तर होना चाहिए उससे कहीं ज्यादा इन ब्लड सैंपलों में पाया गया जो कैंसर का बड़ा कारण होते हैं।
 एक सर्वे में बताया गया कि खेती में ज्यादा रासायनिक, कीटनाशक और फर्टिलाइजर का उपयोग करने के कारण जहरीली खेती हो गई है इसके साथ-साथ यह जहर लोगों के ब्लड में भी पहुंच गया है जो स्वास्थ्य के लिए घातक सिद्ध होता है। अत: अपने शरीर को तरह -तरह की विमारियों से वचाने के लिए ऑर्गॅनिक् चाय और आर्गेनिक भोजन का प्रयोग करें।  

Comments

Popular posts from this blog

Kangra Green Tea New Year offers 2020

Kangra Green Tea New Year offers 2020KP Organics is a startup, working  in the  field of Teas. We made perfect blend from Kangra Teas.  We are making  Quality products, lab assisted & blended  with scientific formulas. Our products  developed  in association with CSIR(Council of Scientific & Industrial Research- IHBT Palampur). We are committed for Quality product range. We provide 100% Quality Assurance of  our products. Our continues research  leads us to the success. Kindly feel free to contact us for any query or other  information  related to the products.
KP Organics Kangra Fresh presenting great offers to the customers ie, BUY 2 GET 1 FREE . KP Organics is a startup incubated  with CSIR-IHBT under CM Startup scheme.  Enjoy a cup of Kangra Green Tea with Kangra Fresh  in some special offers Buy 2 Get 1 Free. 
We would like to introduce ourselves as a company with an experienceof 3 years in manufacturing of all kinds of Teas Product and Packet Teas Like Green Tea , CTC Tea…

लोहड़ी की शुभकामनाएं 2020

लोहड़ी की शुभकामनाएं 2020Lohri festival is enjoyed by all peoples because this festival has some energy and whenever this festival come, always bring happiness. Lohri is a fun Indian Festival. It is celebrated on 13th Jan of each year. Next morning isMakar SankrantiorPongal Festival. Lohri is a Punjabi festival which is celebrated by all peoples before the Makar Sankranti in northern India by collecting some piece of wood at one place and they fire this wood at midnight, the day of Lohri and they worship on this day for Fire. Lohri is always celebrated after the New Year and in the month of January at the time of winter. On the day of Lohri, all Children’s collect money and Lohri together at their local places and bonfire is made at the midnight on the same day and on that time they eat (Lohri Festival Food)Sweet, MOONGFALI, Popcorn by sitting around the bonfire. They also throw all sweets and popcorn into the bonfire and, all of them walking around the bonfire in one line.  The day i…

ग्रीन टी के 15 फायदे

ग्रीन टी के 15 फायदे

हम ग्रीन टी का उपयोग क्यों करते हैं? ग्रीन टी का उपयोग हजारों वर्षों से एक औषधि के रूप में किया जाता है, इसकी उत्पत्ति चीन में हुई है लेकिन
अब पूरे भारत और एशिया में इसका व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है, इस पेय के कई प्रकार के उपयोग होते हैं, जिससे कैंसर को रोकने और हमारे स्वास्थ्य में सुधार के लिए रक्तचाप कम होता है।

काली चाय की तुलना में हरी चाय के स्वास्थ्य संबंधी अधिक लाभ हैं, इसका कारण इसकी प्रसंस्करण है। ब्लैक टी को किण्वन विधि द्वारा संसाधित किया जाता है जबकि ग्रीन टी का प्रसंस्करण किण्वन प्रक्रिया से बचाया जाता है। नतीजतन, ग्रीन टी एंटीऑक्सिडेंट और पॉली-फिनोल की अधिकतम मात्रा को बरकरार रखती है जो ग्रीन टी को इसके कई फायदे देती है।

ग्रीन टी का लाभ (आपको यह जानना चाहिए)। यहां ग्रीन टी के अद्भुत लाभों की सूची दी गई है - ऐसे लाभ जिन्हें आपको जानना होगा। इन लाभों में से कुछ पर अभी भी बहस चल रही है, और यदि आप औषधीय प्रयोजनों के रूप में हरी चाय का उपयोग करना चाहते हैं, तो कृपया अपने आप अनुसंधान करें।


1. वजन में कमी। ग्रीन टी हमारे शरीर के चयापचय को बढ़ाती है। …